Press "Enter" to skip to content

जितना है तो ज़िद कर

कुछ भी असंभव नहीं इस दुनिया में
जरा कोशिश कर के देख
मिलेगी तुझे मंजिल
जरा कोशिश कर के दख

 

 

मेरी ज़िंदगी में फॉरएवर की सुरुआत आज से 6 साल पहले हुई थी, मेरी स्वास्थ्य सम्बन्धी कुछ परेशानिया थी , उसी दौरान हमारा परिचय फॉरएवर से हुआ और हमारे upline प्रवीण कुमार साहू जी ने मुझे फॉरएवर के प्रोडक्ट्स से अवगत कराया | मुझे इन प्रोडक्ट्स से काफी लाभ हुआ , फिर उन्होंने मुझे फॉरएवर के बिज़नेस लाभ के बारे में अवगत कराया और मुझे समझ में यह आया की यही वह शुभ अवसर है | जहाँ से मै अपने सपनो को साकार कर सकता हु | मैंने अपनी नीव को मज़बूत किया और फिर फॉरएवर में सच्चे दिल से काम करना सुरु कर दिया साथ ही साथ फॉरएवर की ट्रेनिंग भी लगातार लेता रहा | उसके बाद सफलताय नज़दीक आने लगी और 14 महीने बाद मै मैनेजर बन गया | फॉरएवर में काम करते समय जीवन में बहुत साड़ी चुनोतिया आयी पर मै खबराया नहीं | बल्कि उन चुनोतियो के कारण और भी मज़बूती से आगे बढ़ने लगा |

 

 

आज मै गर्व से कहता हु की फॉरएवर ने मेरी ज़िंदगी बदल दी है | फॉरएवर को मै अपने परिवार की तरह महत्व देता हु | फॉरएवर के पहले मेरा कपड़ो का बिज़नेस था | वहां मेरी ज़िंदगी चल रही थी , लेकिन फॉरएवर में 6 साल में पूरी टीम के साथ मै अच्छी ज़िंदगी जी रहा हु | हर एक का सपना होता है की अच्छे शहर में अपना एक घर हो | फॉरएवर से पटना शहर में मुझे एक घर मिला, एक कार मिली और अपने बच्चो को एक अच्छे स्कूल में एजुकेशन दिला रहा हु | इसका सारा क्रेडिट फॉरएवर को जाता है हमारी सफलता का श्रेय फॉरएवर के शानदार प्रोडक्ट्स तथा हमारे टीम लीडर्स को जाता है | मई अपने लीडर्स का धन्यवाद करता हु की यहाँ तक लाने में उन्होंने मुझे पूरा सहयोग दिया |

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *